मणिपुर की हिंसा की पूरी कहानी | Manipur Hinsa

कुछ दिनों पहले आपने सोशल मीडिया पर एक वीडियो देखा ही होगा,जिसमें कई सारे लोग दो लड़कियों को निर्वस्त्र करके घुमा रहे हैं और उनका यौन उत्पीड़न भी कर रहे हैं ।
यह वीडियो देख आपका भी खून खोला होगा आखिर क्या वजह है मणिपुर की हिंसा की पूरी कहानी को जानते हैं आज के इस लेख में. manipur hinsa ki khani.
manipur women parade
women naked parade
आज की घटना से पहले हम मणिपुर का इतिहास जानते हैं, इसी इतिहास में छुपी है मणिपुर के हिसा की पूरी कहानी.मणिपुर में दो समुदाय रहते हैं एक है मैतई तो दूसरा है कुकी, खास करके इन्हीं दो समुदायों में हिंसक झड़प चालू है.
मणिपुर राज्य भारत के पूर्वोत्तर में स्थित राज्य है.
भारत के सेवन सिस्टर में से एक बहन झुलस रही है. मणिपुर की लोकसंख्या की बात की जाए तो यहां पर 1300000 लोग रहते हैं जिसमें बहुसंख्यक है मैतई समुदाय और जबकि लगभग 40 फ़ीसदी कुकी और दूसरा एक समुदाय जिसका नाम नागा समुदाय है. जिन्हें अल्पसंख्यक का दर्जा दिया गया है।
मणिपुर का इतिहास समझे तो मणिपुर की 90% जमीन पहाड़ी है.
जहां पर कुकी लोग रहते हैं. अनुसूचित जनजाति नियम के अधीन उस जमीन पर सिर्फ अनुसूचित जनजाति में शामिल होने वाले लोग ही जमीन खरीद सकते हैं.पहाड़ी इलाके में मैतई समुदाय जमीन खरीद नही सकते. इसका मतलब सिर्फ 10% जगह पर मैतई समाज खरीद बिक्री कर सकता है.
इसी के लिए मैतई समाज की मांग है कि उन्हें भी अनुसूचित जनजाति का दर्जा मिले.
उनकी यह मांग लंबे समय से चल रही है. मैतई समुदाय की मांग के विरोध में कुकी जनजाति ने एक मोर्चा निकाला था इसी मोर्चे से शुरू होता है मणिपुर की हिंसा का सिलसिला.
महिलाओं को निर्वस्त्र करने की बात निंदनीय है फिर भी एक संविधानिक राष्ट्र के तौर पर विचार करे तो.
जिस समाज की संख्या 53 फ़ीसदी है वह 10 फ़ीसदी जगह पर रहता है और जिसकी संख्या 45 फ़ीसदी है वह 90% जमीन खरीद सकता है.
विशेष बात यह है कि कुकी लोग इस 10% में भी जगह खरीद सकते हैं I
इसी अन्याय को सहते हुए मैतई समाज सड़क पर उतर आया है.यही है मणिपुर की हिंसा की पूरी कहानी .Manipur hinsa ki kahan.
manipur
manipur hinsa
जानते हैं मणिपुर में रहने वाले 3 जातियों के बारे में
कुकी जनजाति यह एक आदिवासी जनजाति है. जो खास करके भारत के मणिपुर और मिजोरम राज्य के दक्षिण पूर्वी भाग में रहती है कुकी जनजाति आमतौर पर भारत, मैनमार और बांग्लादेश में पाए जाने वाली एक पहाड़ी जाती है.
मणिपुर की आबादी का विचार किया जाए तो पूरी आबादी में कुकी और दूसरी जाति नागा जाति की संख्या लगभग 40% है पर इन्होंने मणिपुर की 90% प्रतिशत भूमि काबिज की है.
कुकी समाज आदिवासी जनजाति है जिनका अधिक तौर पर धर्मांतर हुआ है और उन्होंने ईसाई धर्म अपनाया है.
मैतई वह समाज है जो संख्या के हिसाब से विचार किया जाए तो मणिपुर में सर्वाधिक है यह बहुसंख्य समाज है.
खास करके मैतई समाज राजधानी इंफाल में रहता है.इन्हें मणिपुरी भी कहा जाता है ऐसा मानते हैं कि इस समाज की कुल आबादी 65 फ़ीसदी है पर फिर भी इन्होंने व्याप्त की की जमीन सिर्फ 10% है.
मैतई समाज में ज्यादातर हिंदू लोग हैं. जबकि नागा और कुकी समुदाय इसाई है.
मैतई राज्य करने वाली जाती है. उसकी मणिपुर की सियासत में अच्छी खासी पकड़ है. कुल मणिपुर के विधानसभा क्षेत्र का विचार किया जाए तो 40 सीटों पर मैतई समाज का वर्चस्व है. जो इंफाल घाट क्षेत्र से आती है. शिक्षा के तौर पर भी विचार किया जाए तो मैतई समाज कुकी और नागावो की तुलना में बहुत ज्यादा शिक्षित है
कुकी जनजाति का इतिहास जानना है तो इस समाज को मैतई राजाओं द्वारा ही स्थापित किया गया है.जिन्हें नागवो के विरुद्ध लढने के लिय लाया गया था.ये है  Manipur hinsa ki kahan दूसरी वजह.
manipur
manipur hinsa
3 मई के बाद अब तक क्या क्या हुआ है?
मणिपुर की हिंसा के बाद अमित शाह ने किया था मणिपुर का दौरा मणिपुर में हो रही हिंसा को रोकने के लिए भारत के गृह मंत्री अमित शाह ने मणिपुर का दौरा किया था और उन्होंने वहां के दोनों समुदायों के वरिष्ठ नेताओं से बातचीत की थीमहिलाओं को निर्वस्त्र घुमाने का वीडियो सामने आने पर बहुत से राजकीय लोगों, बॉलीवुड के कलाकार और समाजसेवकों ने इसका पुरजोर से विरोध किया है.
“यह भारत को कलंकित करने वाली बात है”
आज एक साथ खड़ा रहने वाला नागा समुदाय जो कुकी का साथ दे रहा है वह कभी कुकी समुदाय का विरोधी था. कुकी और नागावो के बीच में भी बहुत सारी झड़पे हो चुकी है.1993 हुई हिंसा में 700 से ज्यादा लोग मारे गए थे.आप जान ही चुके होंगे मणिपुर हिंसा की पूरी कहानी.
Spread the Facts
Tags: No tags

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *